Basics of E commerce In india | How to start Online Business

 
 
Basics of E commerce In india | How to start Online Business
 
 
     
 

Table of Contents

What is E-commerce? E-COMMERCE क्या है??

 

इंटरनेट के ज़माने में कोई भी ऐसा लेनदेन जिसका भुगतान हमने online किया हो या ऐसी कोई सेवा जिसे हमने ऑनलाइन प्राप्त किया हो | इन सभी तरीके के लेनदेन को eCommerce  के दायरे में रखा जाता है | जैसे जैसे इंटरनेट की यूजर बढ़ते जा रहे है वैसे वैसे eCommerce का विस्तार हो रहा है | ऑनलाइन ज्यादा रहने की वजह से लोग ऑनलाइन transaction एवं online सामान खरीदने लगे है जिसे हम eCommerce  कहते है | 
 
 

Type of E-commerce?ई-कॉमर्स कितने प्रकार के होते हैं ?


E commerce  को अगर हम समझने की कोशिश करें  तो इसको हम 4 भागो में बांटते है 

1.B2B::E commerce दो व्यक्तियों के बीच में होता है| जिसमें एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को अपना सामान बेचता है |तथा दूसरा व्यक्ति भी उस सामान को आगे बेचने के लिए खरीदा है |उस कंडीशन में उसे हमB2B कॉमर्स कहेंगे |B2B कॉमर्स के हमारे मौजूदा उदाहरण Just Dial , Sulekha.com Indiamart जैसे Portals  हैं |जो B2B Sector  में Deals कराते हैं|

 

1.B2C:: B2C के तहत  अगर Costumer online   जाकर कोई सामान खरीदता है   यदि वह  सामान अपने Personal Use के लिए लेता है तथा आगे उसको Resale नहीं करता है| तब उस स्थिति में हम इसे  B2C  कहेंगे| B2C  यानी (Business To Costumer or Consumer ) भारत में अभी  B2C Websites Amazon ,Flipkart ,Snapdeal  जैसी तमाम वेबसाइट है जो B2C में Deal करते हैं|

 

3.C2C:: अगर कोई व्यक्ति बाजार से कोई सामान खरीद कर और कुछ समय तक उसका इस्तेमाल करके अगर उसे दोबारा ऑनलाइन बेचता है उस कंडीशन में इन तरीके इस तरीके के ग्राहकों को हम c2c के तहत रखेंगे इसमें हम जैसे पुरानी बाइक कार को यूज करके और किसी Online Portal Ke माध्यम से किसी Person को बेचते हैं| तथा यह C2C  प्रोसेस कहलाएगा |इसके मौजूदा उदाहरण Quicker , OLX  शामिल है|

Basics of E commerce | How to start E-commerce Business| Ecommerce In india
 
 

4.C2B:: –c2b b2c के बिल्कुल उल्टा होता है इसको हम इस तरीके से समझते हैं यदि कोई Custumer किसी Agency या Company को कोई सर्विस एवं काम के लिए कुछ transaction करता है |तब वह ट्रांजैक्शन c2b के अंतर्गत आएगी |

 हम एक उदाहरण से इसे समझने की कोशिश करते हैं|  मुझे एक वेबसाइट बनवानी है और मैं एक  वेबसाइट बनाने के लिए किसी एजेंसी को ऑफर देता हूं तथा अगर वह एजेंसी मेरी वेबसाइट बनाती है तो उस कंडीशन में, मैं  एक कस्टमर यानी कि (मैं उस कंपनी का कस्टमर हूँ और कंपनी को बिजनेस दे रहा हूं) इसमें जो transaction है वो costumer  to Business के लिए जायगा | इसलिए इसे  कहा जायगा 

 

ये खास आपके लिए है :-Amazon पर Business कैसे शुरू करे 
 
 
 

भारतमें Ecommerce | Ecommerce In India.

 

How to start Ecommerce Business| E-commerce basics | ecommerce in India |how many Time India is coming in india| Amazon |Flipkart | Eventjade |

दोस्तों क्या आपने कभी भी Internet के द्वारा cloths, Shoes या कोई भी सामान खरीदा है|  तो आप  E-commerce का इस्तेमाल कर चुके हैं| जी हां इंटरनेट के द्वारा किसी भी तरीके के लेन-देन में आदान-प्रदान की प्रक्रिया को E-COMMERCEकहा जाता है|

दोस्तोंकॉमर्स की शुरुआत 1960 केदशक में  हुईथी| जब कंपनियों केसाथ बिजनेस डॉक्यूमेंट को शेयर करनेके लिए Electronic Data Interchange  काइस्तेमाल चालू किया गया |1979 में अमेरिकन स्टैंडर्ड इंस्टिट्यूट में इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क के माध्यम सेडॉक्यूमेंट को शेयर करनेके व्यवसाय के लिए एकयूनिवर्सल स्टैंडर्ड के रूप मेंविकसित किया था|
 
1990 केदशक में Ebay और Amazon जैसी Big Ecommerce Company  नेपूरे विश्व में E-commerce  कोएक अलग गति प्रदान की और कैशलेसट्रांजैक्शन को शुरू करनेमें  काफीमहत्वपूर्ण भूमिका रही थी |अब हम Amazon , Flipkart  ,Ebay जैसी कंपनियोंके माध्यम से कुछ भीसामान घर बैठे Mangaसकते हैं |
 
ये खास आपके लिए है :- Online business के फायदे और नुकसान 
 
 
भारतमें E commerce का बाजार वर्ष2009 में लगभग 3.7 अरब डॉलर था| जो कि 2013 में12.7 अरब डॉलर हो गया |2016 – 17 किहम माने तो ऑनलाइन बाजारमें लगभग 18 फीसदी  की काफीऊंची बढ़त हुई थी|
 
जुलाई2017 तक भारत में 450 Million  इंटरनेटयूजर थे |जो कि Total आबादीका 40% हिस्सा है| जो कि दुनियामें दूसरी सबसे बड़ा यूजर बेस बनने के बावजूद भारतदुनिया में दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट देश बन चुका था|इसके बावजूद चीन भी भारत सेपीछे रह गया हैचीन का 48 परसेंट भाग ही E-COMMERCEका इस्तेमालकरता है |

संयुक्त राज्य अमेरिका की 84 % जनसंख्या इंटरनेटका इस्तेमाल करती है| और इसके अलावाफ्रांस की 81% जनसंख्या इंटरनेट का इस्तेमाल करतीहै| इनकी तुलना में अगर देखा जाए तो भारत मेंअभी इंटरनेट काफी कम है |औरआने वाले सालों में भारत में इंटरनेट की जनसंख्या काफीतेजी से बढ़ने वालीहै |और इंटरनेट यूजरकाफी तेजी से बढ़ रहेहैं|

 एक रिपोर्ट केअनुसार 2017 में भारत की E commerce  मार्केटमें 2 से 2.5लाख करोड़ का Profit बढ़ा हुआ है| 

       अगर आपको हमारे द्वारा दी हुई जानकारी पसंद आई है तो इसे आप अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करें ताकि वह भी इस जानकारी को ग्रहण कर सके                                  
 

3 Replies to “Basics of E commerce In india | How to start Online Business”

  1. outsourcingall.com "Usually I never comment on blogs but your article is so convincing that I never stop myself to say something about it.
    This paragraph gives clear idea for the new viewers of blogging, Thanks you. You’re doing a great job Man, Keep it up.
    outsourcing training in dhaka

Leave a Reply